आधुनिक जीवनशैली में अत्यधिक तनाव, अनियमित आहार और व्यायाम की कमी के कारण आजकल शुगर मधुमेह रोग की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। शुगर या मधुमेह एक गंभीर रोग है जो शरीर के रक्त में ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित न करने की स्थिति है। यह एक जीवनशैली संबंधी बीमारी है जो बीमार की सामान्य शिकायतों में भी कई दिक्कतों को उत्पन्न कर सकती है। यहाँ हम आपको शुगर रोग के लक्षण, कारण और उपचार के बारे में जानकारी देंगे।

शुगर रोग के लक्षण :

⏩ अत्यधिक प्यास और भूख का लगना।
⏩ अक्सर मूत्र में शुगर की मात्रा बढ़ जाना।
⏩ थकान और कमजोरी का अनुभव।
⏩ वजन में अनियमितता।
⏩ चक्कर आना और भ्रमित होना।

चक्कर आने पर थकान और खून में ग्लूकोज की कमी के कारण अचानक हिलने का अनुभव हो सकता है।

शुगर रोग के कारण :

⏩ अत्यधिक खानपान और मिठाई का सेवन।
⏩ अव्यवस्थित जीवनशैली, अत्यधिक तनाव और अभाव व्यायाम।
⏩ आवासीय जीवन में बैठकर काम करना और शारीरिक गतिविधियों की कमी।
⏩ उम्र के साथ शरीर की सामान्य कार्यप्रणाली की कमजोरी।

शुगर रोग का उपचार :

⏩ नियमित व्यायाम करें और स्वस्थ आहार लें।
⏩ डॉक्टर के निर्देशनानुसार दवाओं का सेवन करें।
⏩ मानसिक तनाव को कम करने के लिए योग और ध्यान का प्रयास करें।
⏩ नियमित रूप से अपने डॉक्टर के पास जाकर अपनी सेहत का निरीक्षण करवाएं।

शुगर रोग के लक्षणों को समय रहते पहचानकर उचित उपचार कराना बेहद महत्वपूर्ण है। नियमित चेकअप और सही जानकारी के आधार पर एक स्वस्थ जीवनशैली अपनाना शुगर रोग को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है।

शुगर या मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए कई घरेलू उपाय हैं, जिन्हें नियमित रूप से अपनाकर शुगर को संतुलित किया जा सकता है। यहां कुछ ऐसे घरेलू उपाय दिए जा रहे हैं जो शुगर को ठीक करने में मदद कर सकते हैं :

करेला का उपयोग : करेले में मौजूद चर्बीयां और कार्बोहाइड्रेट्स को कम करने के कारण यह मधुमेह के मरीजों के लिए लाभकारी होता है। करेले के रस का सेवन करने से रक्त शर्करा स्तर को नियंत्रित किया जा सकता है।

मेथी का उपयोग : मेथी भी मधुमेह को नियंत्रित करने में मदद कर सकती है। मेथी के बीज को रात भर भिगोकर रखें और सुबह खाली पेट खाएं या मेथी का पाउडर दूध के साथ ले सकते हैं।

नीम का उपयोग : नीम के पत्तों को पानी में उबालकर उस पानी को पीने से मधुमेह के रोगी को लाभ हो सकता है। नीम के पत्तों का सेवन भी रक्त शर्करा को नियंत्रित करने में मदद करता है।

तुलसी का सेवन : तुलसी के पत्ते का सेवन भी मधुमेह के मरीजों के लिए फायदेमंद होता है। तुलसी के पत्ते को पानी में उबालकर उसे पीने से शरीर के रक्त शर्करा स्तर को कम किया जा सकता है।

जामुन का सेवन : जामुन के बीजों को पीसकर उसका रस निकालें और उसे रोजाना सुबह खाएं। जामुन का सेवन भी मधुमेह के लिए लाभकारी होता है।

ये थे कुछ घरेलू उपाय जो मधुमेह के रोगियों को आराम प्रदान कर सकते हैं। लेकिन ध्यान दें कि इन उपायों का प्रभाव सभी पर एक समान नहीं होता है और इन्हें शिक्षित चिकित्सक की सलाह पर ही अपनाया जाना चाहिए।

उत्तराखंड लोक सेवा आयोग ने निकाली 223 पदों पर नई भर्ती, आवेदन शुरू